श्री खाटू श्याम जी – जानिए महाभारत में कौन था कर्ण से भी बड़ा दानवीर | Shri Khatu Shyam Ji – Jaaniye Mahabharat mein kaun tha Karan se bhi bada Daanveer

श्री खाटू श्याम जी - जानिए महाभारत में कौन था कर्ण से भी बड़ा दानवीर , Shri Khatu Shyam Ji - Jaaniye Mahabharat mein kaun tha Karan se bhi bada Daanveer

श्री खाटू श्याम जी – जानिए महाभारत में कौन था कर्ण से भी बड़ा दानवीर | Shri Khatu Shyam Ji – Jaaniye Mahabharat mein kaun tha Karan se bhi bada Daanveer हमारे देश के बहुत से धार्मिक स्थल (spiritual places)  चमत्कारों व वरदानों के लिए प्रसिद्ध (famous) हैं. उन्हें में से एक है राजस्थान (rajasthan) का प्रसिद्ध “खाटू श्याम मंदिर”. ...

Read More »

महाभारत की कहानियाँ – विश्वामित्र की तपस्या क्यों भंग की गई? | Mahabaharat ki Kahaniya- Vishwamitra ji ki tapasya kyon bhang ki gayi

महाभारत की कहानियाँ - विश्वामित्र की तपस्या क्यों भंग की गई? , Mahabaharat ki Kahaniya- Vishwamitra ji ki tapasya kyon bhang ki gayi

महाभारत की कहानियाँ – विश्वामित्र की तपस्या क्यों भंग की गई? | Mahabaharat ki Kahaniya- Vishwamitra ji ki tapasya kyon bhang ki gayi पुराणों में इंद्र को हमेशा अपने सिंहासन के लिए शंकित और सुरक्षा (safety) के लिए चिंतित बताया गया है। जब भी कोई तपस्या करता है, इंद्र इससे चिंतित और भयभीत (fear/afraid) रहते हैं कि इसका लक्ष्य (target) ...

Read More »

महाभारत के रहस्य-इस मंदिर में की जाती है महाभारत के खलनायक समझे जाने वाले दुर्योधन की पूजा – Mahabharat ke Rahasya-is mandir mein ki jaati hai mahabharat ke khalnayak duryodhan ki pooja

महाभारत के रहस्य-इस मंदिर में की जाती है महाभारत के खलनायक समझे जाने वाले दुर्योधन की पूजा , Mahabharat ke Rahasya-is mandir mein ki jaati hai mahabharat ke khalnayak duryodhan ki pooja

महाभारत के रहस्य-इस मंदिर में की जाती है महाभारत के खलनायक समझे जाने वाले दुर्योधन की पूजा – Mahabharat ke Rahasya-is mandir mein ki jaati hai mahabharat ke khalnayak duryodhan ki pooja सत्य-असत्य, बेईमानी-ईमानदारी, पाप-पुण्य जैसे शब्द (words) एक दूसरे से अलग करके नहीं समझे जा सकते. एक-दूसरे के बिना इनका अस्तित्व भी शायद सम्भव (possible) नहीं हो सकता. उसी ...

Read More »

महाभारत के रहस्य- कर्ण की दानवीरता | Mahabharat ke Rahasya- karan ki daanveerta

महाभारत के रहस्य- कर्ण की दानवीरता , Mahabharat ke Rahasya- karan ki daanveerta

महाभारत के रहस्य- कर्ण की दानवीरता  | Mahabharat ke Rahasya- karan ki daanveerta महाभारत (mahabharat) के युद्ध का सत्रहवां दिन समाप्त (finish) हो गया था| महारथी कर्ण रणभूमि में गिर चुके थे| पांडव-शिविर में आनंदोत्सव (enjoyment) हो रहा था| ऐसे उल्लास के समय श्रीकृष्ण खिन्न थे| वे बार-बार कर्ण की प्रशंसा कर रहे थे, “आज पृथ्वी से सच्चा दानी उठ ...

Read More »

महाभारत के रहस्य – पांडवों द्वारा बनवाए गए पांच मंदिरों का रहस्य| mahabharat ke rahasya – Paandavo dwara banaye gaye paanch mandiro ka rahasya

महाभारत के रहस्य - पांडवों द्वारा बनवाए गए पांच मंदिरों का रहस्य, mahabharat ke rahasya - Paandavo dwara banaye gaye paanch mandiro ka rahasya

महाभारत के रहस्य – पांडवों द्वारा बनवाए गए पांच मंदिरों का रहस्य| mahabharat ke rahasya – Paandavo dwara banaye gaye paanch mandiro ka rahasya अज्ञातवास के दौरान माता कुंती रेत के शिवलिंग (shivling) बनाकर शिवजी की पूजा (prayer of shivji) किया करती थीं तब पांडवों ने पूछा कि आप किसी मंदिर (mandir/temple) में जाकर क्यों नहीं पूजा करतीं? कुंती ने ...

Read More »

महाभारत का अपशकुनी – कपटी शकुनि | mahabharat ka Apshakuni- Kapti Shakuni

महाभारत का अपशकुनी - कपटी शकुनि , mahabharat ka Apshakuni- Kapti Shakuni

महाभारत का अपशकुनी – कपटी शकुनि | mahabharat ka Apshakuni- Kapti Shakuni शकुनि गांधारराज सुबल का पुत्र था| गांधारी इसी की बहन (sister) थी| वह गांधारी के स्वभाव से विपरीत स्वभाव (opposite nature) वाला था| जहां गांधारी के स्वभाव में उदारता, विनम्रता, स्थिरता और साधना की पवित्रता थी, वहीं शकुनि के स्वभाव में कुटिलता, दुष्टता, छल और दुराचार का अधिकार ...

Read More »

महाबली भीम के पुत्र घटोत्कच का कंकाल मिला | mahabali Shri Bheem ke putra Ghatokach ka kankaal mila

महाबली भीम के पुत्र घटोत्कच का कंकाल मिला, mahabali Shri Bheem ke putra Ghatokach ka kankaal mila

महाबली भीम के पुत्र घटोत्कच का कंकाल मिला | mahabali Shri Bheem ke putra Ghatokach ka kankaal mila भारत के उत्तरी क्षेत्र (north area) में खुदाई के समय नेशनल ज्योग्राफिक (national geographic – भारतीय प्रभाग) को 22 फुट का विशाल नरकंकाल (huge skeleton) मिला है। उत्तर के रेगिस्तानी इलाके में एम्प्टी क्षेत्र के नाम से जाना जाने वाला यह क्षेत्र ...

Read More »

महाभारत की एक अनोखी कहानी- महाभारत में अर्जुन की प्रतिज्ञा | Mahabharat ki ek Anokhi Kahani- Mahabharat mein Arjun ki Pratigya

महाभारत की एक अनोखी कहानी- महाभारत में अर्जुन की प्रतिज्ञा , Mahabharat ki ek Anokhi Kahani- Mahabharat mein Arjun ki Pratigya

महाभारत की एक अनोखी कहानी- महाभारत में अर्जुन की प्रतिज्ञा | Mahabharat ki ek Anokhi Kahani- Mahabharat mein Arjun ki Pratigya महाभारत का भयंकर युद्ध (dangerous war) चल रहा था। लड़ते-लड़के अर्जुन रणक्षेत्र से दूर चले गए थे। अर्जुन की अनुपस्थिति में पाण्डवों को पराजित करने के लिए द्रोणाचार्य ने चक्रव्यूह (chakravyuh) की रचना की। अर्जुन-पुत्र अभिमन्यु चक्रव्यूह भेदने के ...

Read More »

ह्र्दय विदारक दृश्य – गाँधारी का श्राप, श्रीकृष्ण का श्राप स्वीकारना | hridya Vidarak Drishya- Gandhari mata ka shraap aur bhagwan shri krishan ji dwara shraap savikar karna

ह्र्दय विदारक दृश्य - गाँधारी का श्राप, श्रीकृष्ण का श्राप स्वीकारना , hridya Vidarak Drishya- Gandhari mata ka shraap aur bhagwan shri krishan ji dwara shraap savikar karna

ह्र्दय विदारक दृश्य – गाँधारी का श्राप, श्रीकृष्ण का श्राप स्वीकारना | hridya Vidarak Drishya- Gandhari mata ka shraap aur bhagwan shri krishan ji dwara shraap savikar karna दुर्योधन के अंत के साथ ही महाभारत के महायुद्ध (end of war of mahabharat) का भी अंत हो गया । माता गाँधारी दुर्योधन के शव (dead body) के पास खडी फफक-फफक कर ...

Read More »

यदि सफलता की बुलंदियों को छूना है तो अवश्य ध्यान दें महाभारत की इन 10 बातों पर | Yadi Safalta ki bulandiyo ko choona hai to avashya dhyan de mahabharat ki in 10 baaton par

यदि सफलता की बुलंदियों को छूना है तो अवश्य ध्यान दें महाभारत की इन 10 बातों पर , Yadi Safalta ki bulandiyo ko choona hai to avashya dhyan de mahabharat ki in 10 baaton par

यदि सफलता की बुलंदियों को छूना है तो अवश्य  ध्यान दें महाभारत की इन 10 बातों पर | Yadi Safalta ki bulandiyo ko choona hai to avashya dhyan de mahabharat ki in 10 baaton par महाभारत भारत और विश्व का ऐसा महाकाव्य है जो वास्तविकता के अत्यंत निकट है (near the reality). इसकी पंक्तियाँ सांसारिक व्यवहारिकता को व्यक्त करती है. ...

Read More »