मर्मस्पर्शी आलेख धन दौलत और रिश्ते | Heart Touching Story Money and Relations

मर्मस्पर्शी आलेख धन दौलत और रिश्ते | Heart Touching Story Money and Relations

मेरी पत्नी ने कुछ दिनों पहले घर की छत पर कुछ गमले (flower pots) रखवा दिए और एक छोटा सा गार्डन (small garden) बना लिया।

पिछले दिनों मैं छत पर गया तो ये देख कर हैरान रह गया कि कई गमलों में फूल (flowers in pot) खिल गए हैं,

नींबू के पौधे में दो नींबू (lemons) भी लटके हुए हैं और दो चार हरी मिर्च (green chillies) भी लटकी हुई नज़र आई।

मैंने देखा कि पिछले हफ्ते उसने बांस का जो पौधा (bamboo plant) गमले में लगाया था, उस गमले को घसीट कर दूसरे गमले के पास कर रही थी।

मैंने कहा तुम इस भारी गमले को क्यों घसीट (crawling) रही हो ??

पत्नी ने मुझसे कहा कि यहां ये बांस का पौधा सूख (dry) रहा है, इसे खिसका कर इस पौधे के (near other plants) पास कर देते हैं।

मैं हंस पड़ा (laugh) और कहा अरे पौधा सूख रहा है तो खाद डालो, पानी (water) डालो।

इसे खिसका कर किसी और पौधे के पास कर देने से (what will happen) क्या होगा?”

पत्नी ने मुस्कुराते (smile) हुए कहा ये पौधा यहां अकेला (alone) है इसलिए मुर्झा रहा है।

इसे इस पौधे के पास कर देंगे तो ये फिर लहलहा (grow again) उठेगा।

पौधे अकेले में सूख (dry) जाते हैं, लेकिन उन्हें अगर किसी और पौधे का साथ (company) मिल जाए तो जी उठते हैं।”

यह बहुत अजीब सी बात थी।

एक-एक कर कई तस्वीरें (few pictures) आखों के आगे बनती चली गईं।

मां की मौत (after death of mother) के बाद पिताजी कैसे एक ही रात (old in a night) में बूढ़े, बहुत बूढ़े हो गए थे।

हालांकि मां के जाने के बाद सोलह साल (16 years) तक वो रहे, लेकिन सूखते हुए पौधे की तरह।

मां के रहते हुए जिस पिताजी को मैंने कभी उदास (never seen him sad) नहीं देखा था, वो मां के जाने के बाद खामोश (silent) से हो गए थे।

मुझे पत्नी (wife) के विश्वास (belief) पर पूरा विश्वास (believe) हो रहा था।

लग रहा था कि सचमुच पौधे अकेले में सूख (pants dry in alone) जाते होंगे।

बचपन में मैं एक बार बाज़ार से एक छोटी सी रंगीन मछली (bought golden fish) खरीद कर लाया था और उसे शीशे के जार (glass jar) में पानी भर कर रख दिया था।

मछली (fish) सारा दिन गुमसुम रही।

मैंने उसके लिए खाना (give feed) भी डाला, लेकिन वो चुपचाप (silent) इधर-उधर पानी में अनमना सा घूमती रही।

सारा खाना जार की तलहटी  में जाकर बैठ गया, मछली ने कुछ (fish did not eat the food) नहीं खाया। दो दिनों तक वो ऐसे ही रही, और एक सुबह (money) मैंने देखा कि वो पानी की सतह पर उल्टी पड़ी थी।

आज मुझे घर में पाली वो छोटी सी मछली याद (that small fish) आ रही थी।

बचपन (childhood) में किसी ने मुझे ये नहीं बताया था, अगर मालूम होता तो कम से कम दो, तीन या ढ़ेर सारी मछलियां खरीद (bought too many fishes) लाता और मेरी वो प्यारी मछली यूं तन्हा न (died lonely) मर जाती।

बचपन में मेरी माँ से सुना था कि लोग मकान (house) बनवाते थे और रौशनी (for light) के लिए कमरे में दीपक रखने के लिए दीवार (wall) में इसलिए दो मोखे बनवाते थे क्योंकि माँ का कहना था कि बेचारा अकेला a(lone) मोखा गुमसुम और उदास हो जाता है।

मुझे लगता है कि संसार में किसी को अकेलापन (no one likes to be alone) पसंद नहीं।

आदमी (human)हो या पौधा (plant), हर किसी को किसी न किसी के साथ की ज़रुरत (need) होती है।

आप अपने आसपास झांकिए, अगर कहीं कोई अकेला दिखे तो उसे अपना साथ (give support) दीजिए, उसे मुरझाने से बचाइए।

अगर आप अकेले हों, तो आप भी किसी का साथ (take someones support) लीजिए, आप खुद को भी मुरझाने से रोकिए।

अकेलापन संसार में सबसे बड़ी सजा (punishment) है।

गमले के पौधे (plant in pot) को तो हाथ से खींच कर एक दूसरे पौधे के पास किया जा सकता है, लेकिन आदमी को करीब लाने के लिए जरुरत होती है रिश्तों को (understanding in relations) समझने की, सहेजने की और समेटने की।

अगर मन के किसी कोने में आपको लगे कि ज़िंदगी का रस (life is boring) सूख रहा है, जीवन मुरझा रहा है तो उस पर रिश्तों के प्यार का (love in relations) रस डालिए।

खुश रहिए और (keep smiling) मुस्कुराइए।

कोई यूं ही किसी और की गलती से आपसे दूर (far away from you) होगया हो तो उसे अपने करीब लाने की कोशिश (try to them again with you) कीजिए और हो जाइए हरा-भरा।

आयुर्वेदिक उपचार, घरेलू उपचार, natural healing in hindi, household remedies in hindi

Loading...
Loading...
Loading...
, , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , ,

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *