बेवकूफ़ घंटीधारी ऊंट – Stupid camel with bell

बेवकूफ़ घंटीधारी ऊंट – Stupid camel with bell

                    एक बार की बात है कि एक गांव (village) में एक जुलाहा (weaver) रहता था। वह बहुत गरीब (very poor) था। उसकी शादी बचपन (married in very young age) में ही हो गई थी। बीवी आने के बाद घर का खर्चा (increases in expenditure) बढ़ना था। यही चिन्ता (stressed) उसे खाए जाती। फिर गांव में अकाल (drought) भी पड़ा। लोग कंगाल (poor) हो गए।

                   जुलाहे की आय एकदम खत्म (income completely finished) हो गई। उसके पास शहर (city) जाने के सिवा और कोई चारा (no other option) न रहा। शहर में उसने कुछ महीने छोटे-मोटे (did some small works) काम किए। थोड़ा-सा पैसा अंटी (come money in pocket) में आ गया और गांव से खबर आने पर कि अकाल समाप्त (drought is finished) हो गया है, वह गांव की ओर चल पड़ा।

                   रास्ते में उसे एक जगह सड़क (on road side) किनारे एक ऊंटनी नजर आई। ऊंटनी (camel) बीमार नजर आ रही थी और वह गर्भवती (pregnant) थी। उसे ऊंटनी पर दया (mercy) आ गई। वह उसे अपने साथ अपने घर (home) ले आया। घर में ऊंटनी को ठीक चारा व घास (food) मिलने लगी तो वह पूरी तरह स्वस्थ (completely healthy) हो गई और समय आने पर उसने एक स्वस्थ बच्चे को जन्म (birth to healthy baby camel) दिया। बच्चा उसके लिए बहुत भाग्यशाली (very lucky) साबित हुआ।

                  कुछ दिनों बाद ही एक कलाकार (artist) गांव के जीवन पर चित्र (painting idea of village) बनाने उसी गांव में आया। पेंटिंग के ब्रुश (painting and brush) बनाने के लिए वह जुलाहे के घर आकर ऊंट के बच्चे की दुम (hairs of tail) के बाल ले जाता। लगभग दो सप्ताह (for 2 weeks) गांव में रहने के बाद चित्र (made paintings) बनाकर कलाकार चला गया।

इधर ऊंटनी खूब दूध (giving milk) देने लगी तो जुलाहा उसे बेचने (sell) लगा। एक दिन वही कलाकार गांव लौटा और जुलाहे को काफी सारे (give lot of money) पैसे दे गया, क्योंकि कलाकार ने उन चित्रों से बहुत पुरस्कार जीते थे (win so many prizes) और उसके चित्र अच्छी (sold paintings for good price) कीमतों में बिके थे।

                 जुलाहा उस ऊंट बच्चे को अपने भाग्य का (lucky charm for him) सितारा मानने लगा। कलाकार से मिली राशि के कुछ पैसों से उसने ऊंट के गले के लिए सुंदर-सी घंटी (beautiful ring) खरीदी और पहना दी। इस प्रकार जुलाहे के दिन (his day changes) फिर गए। वह अपनी दुल्हन (bride) को भी एक दिन गौना करके ले आया।

                  ऊंटों के जीवन में आने से जुलाहे के जीवन में जो (happiness in life) सुख आया, उससे जुलाहे के दिल में इच्छा हुई कि जुलाहे का धंधा छोड़ क्यों न वह ऊंटों (business of camels) का व्यापारी ही बन जाए। उसकी पत्नी भी उससे पूरी तरह (wife also agrees) सहमत हुई। अब तक वह भी गर्भवती (pregnant) हो गई थी और अपने सुख के लिए ऊंटनी व ऊंट (thankful to camel) बच्चे की आभारी थी।

जुलाहे ने कुछ ऊंट खरीद (bought some camels) लिए। उसका ऊंटों का व्यापार (camel business grows) चल निकला। अब उस जुलाहे के पास ऊंटों की एक बड़ी टोली (group of camels) हर समय रहती। उन्हें चरने (eating) के लिए दिन को छोड़ (leave them) दिया जाता। ऊंट बच्चा जो अब जवान (child camel becomes young) हो चुका था उनके साथ घंटी बजाता जाता।

                  एक दिन घंटीधारी की तरह ही के एक युवा ऊंट (young camels ask) ने उससे कहा, भैया! तुम हमसे दूर-दूर (why living away from us) क्यों रहते हो? घंटीधारी गर्व (said proudly) से बोला ‘वाह तुम एक साधारण ऊंट (normal camel) हो। मैं घंटीधारी मालिक (owner) का दुलारा हूं। मैं अपने से ओछे ऊंटों में शामिल होकर अपना मान (don’t want to loose my standard) नहीं खोना चाहता। ‘उसी क्षेत्र में वन (jungle) में एक शेर (tiger) रहता था। शेर एक ऊंचे पत्थर (big stones) पर चढकर ऊंटों को देखता रहता था। उसे एक ऊंट और ऊंटों से अलग-थलग (living alone from other camel) रहता नजर आया।

                  जब शेर किसी जानवर के झुंड पर आक्रमण (attack on group) करता है तो किसी अलग-थलग (searching for alone target) पड़े को ही चुनता है। घंटीधारी की आवाज (sound of ring) के कारण यह काम भी सरल (easy) हो गया था। बिना आंखों देखे (without watching) वह घंटी की आवाज पर घात (attack on sound) लगा सकता था।

                    दूसरे दिन जब ऊंटों का दल (camels group coming back( चरकर लौट रहा था तब घंटीधारी बाकी ऊंटों से बीस कदम (20 feets behind them) पीछे चल रहा था। शेर तो घात (tiger was ready) लगाए बैठा ही था। घंटी की आवाज को निशाना बनाकर वह दौड़ा और उसे मारकर (killed that camel) जंगल में खींच (take him to jungle) ले गया। ऐसे घंटीधारी के अहंकार (attitude kills that camel) ने उसके जीवन की घंटी बजा दी।

सीखः जो स्वयं को ही सबसे श्रेष्ठ (if you think you are the best) समझता है, उसका अहंकार शीघ्र ही उसे (drown someday) ले डूबता है।

Kahani, kahaniya, hindi kahaniya, hindi kahani, stories in hindi, kahaniyan, motivational and inspirational kahaniya

, , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , ,

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *