जाने अनजाने अपशकुन से बचने के 11 तरीके

जाने अनजाने अपशकुन से बचने के 11 तरीके

[1] मुख्य द्वार (main gate) के पास कभी भी कूड़ादान (dustbin) ना रखें इससे पड़ोसी शत्रु हो जायेंगे |

[2] सूर्यास्त (sunset) के समय किसी को भी दूध,दही या प्याज माँगने पर ना दें इससे घर की बरक्कत समाप्त (Finish) हो जाती है |

[3] छत पर कभी भी अनाज या बिस्तर ना धोएं.. हाँ सुखा सकते है इससे ससुराल से सम्बन्ध खराब (bad relations) होने लगते हैं |

[4] फल खूब खाओ स्वास्थ्य (eat fruits for good health) के लिए अच्छे है लेकिन उसके छिलके कूडादान में ना डालें वल्कि बाहर फेंकें इससे मित्रों से लाभ होगा |

[5] माह में एक बार किसी भी दिन घर में मिश्री युक्त खीर जरुर बनाकर परिवार सहित एक साथ खाएं अर्थात जब पूरा परिवार घर में इकट्ठा हो उसी समय खीर खाएं तो माँ लक्ष्मी (goddess lakshmi ji) की जल्दी कृपा होती है |

Click here to read:-  7 Symptoms of Heart Attack which we do not know before

[6] माह में एक बार अपने कार्यालय (office) में भी कुछ मिष्ठान जरुर ले जाएँ उसे अपने साथियों के साथ या अपने अधीन नौकरों (employees) के साथ मिलकर खाए तो धन लाभ होगा |

[7] रात्री में सोने से पहले रसोई में बाल्टी (bucket) भरकर रखें इससे क़र्ज़ से शीघ्र मुक्ति मिलती है और यदि बाथरूम (bathroom) में बाल्टी भरकर रखेंगे तो जीवन में उन्नति के मार्ग में बाधा नही आवेगी |

[8] वृहस्पतिवार (thursday) के दिन घर में कोई भी पीली वस्तु अवश्य खाएं हरी वस्तु ना खाएं तथा बुधवार के दिन हरी वस्तु खाएं लेकिन पीली वस्तु बिलकुल ना खाएं इससे सुख समृद्धि बड़ेगी |

[9] रात्रि को झूठे बर्तन कदापि ना रखें इसे पानी (water) से निकाल कर रख सकते है हानि से बचोगें |

[10] स्नान के बाद गीले या एक दिन पहले के प्रयोग किये गये तौलिये (towel) का प्रयोग ना करें इससे संतान हठी व परिवार (family) से अलग होने लगती है अपनी बात मनवाने लगती है अतः रोज़ साफ़ सुथरा और सूखा तौलिया ही प्रयोग करें |

[11] कभी भी यात्रा (travel) में पूरा परिवार एक साथ घर से ना निकलें आगे पीछे जाएँ इससे यश की वृद्धि होगी |

ऐसे ही अनेक अपशकुन है जिनका हम ध्यान रखें तो जीवन में किसी भी समस्या का सामना (facing problem) नही करना पड़ेगा तथा सुख समृद्धि बड़ेगी |

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *